अप्रत्याशित, काेरोना के ट्रेंड ने हैरान किया: एक दिन पहले 700% मरीज बढ़े, अगले ही दिन 700 फीसदी घट भी गए

जमशेदपुर16 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

लापरवाही पड़ेगी भारी- बाजारों में भीड़, सोशल डिस्टेंसिंग का नहीं हो रहा पालन

  • जिले में संक्रमितों की संख्या और संक्रमण दर में लगातार उतार-चढ़ाव जारी
  • संक्रमण रोकने के लिए पाबंदियां जारी हैं, बिना मास्क बाहर नहीं जाएं

जिले में कोरोना मरीजों की संख्या में उतार-चढ़ाव जारी है। बुधवार को जिले में 1.33 फीसदी की दर से महज 48 कोरोना पॉजिटिव मिले। इसके पहले मंगलवार को जिले में 7.91 फीसदी की दर से 348 संक्रमित मिले थे। जून में यह सबसे अधिक पॉजिटिविटी रेट था। जिले में संक्रमितों की संख्या और संक्रमण दर में लगातार उतार-चढ़ाव जारी है। 1 जून (2.13%) को छोड़ दें तो इस महीने पॉजिटिविटी रेट 2 फीसदी से नीचे ही रहा।

जून के शुरुआती नौ दिन में से चार दिन पॉजिटिविटी रेट 1 फीसदी से भी कम रहा। लेकिन मंगलवार को अप्रत्याशित रूप से संक्रमण दर बढ़कर 8 फीसदी के करीब जा पहुंचा। संक्रमण की बात करें तो जिले में अब तक कुल 51006 संक्रमित मिल चुके हैं। इनमें 49168 ठीक होकर अपने घर लौट चुके हैं। जिले में मृतकों की संख्या 1043 पहुंच गई है। बुधवार को केवल एक मरीज पोटका निवासी 78 वर्षीय पुरुष की मौत हुई।

हमारी लापरवाही पड़ी भारी

राज्यभर में गुरुवार को सभी जिलों को लाॅकडाउन से छूट मिली है, केवल पूर्वी सिंहभूम जिले को छोड़कर। दरअसल हमारी लापरवाही ही हम पर भारी पड़ रही है। गली मुहल्ले से लेकर बाजारों तक उमड़ रही भीड़ और बिना मास्क के घूमते लोगों के कारण कोरोना मरीज फिर से बढ़े हैं। बाजार में सोशल डिस्टेसिंग का भी पालन नहीं हो रहा है। एक से दूसरे से सटकर लोग खरीदारी करते दिख रहे है। इतना ही नही कई लोग अब भी चेहरे के नीचे और गले पर मास्क लटकाए घूम रहे हैं।

ग्रामीण क्षेत्राें से सुखद संदेश; घर-घर सर्वे में कम मिले कोरोना मरीज

जिले के ग्रामीण इलाकों में हुए घर-घर सर्वे में कोरोना के बहुत कम मरीज मिले हैं। यह सुखद संकेत है। यह जानकारी सभी बीडीअाे ने डीडीसी परमेश्वर भगत को दी ही। डीडीसी बुुधवार को वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए जिले में चल रहे घर-घर सर्वे व मनरेगा कार्याें की समीक्षा कर रहे थे। इसमें रैपिड एंटिजन टेस्ट (रेट) के अांकड़े भी पेश किए गए। डीडीसी ने अधिकारियाें काे सर्वे अभियान जारी रखने का आदेश दिया, ताकि कोरोना संक्रमण पर नजर रखी जा सके। बताते चलें कि ग्रामीण क्षेत्राें में संक्रमण के खतरे को देखते हुए प्रशासन शिक्षकाें, आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका, सहिया, स्वयं सहायता समूह की महिलाओं की टीम बनाकर घर-घर सर्वे करा रहा है।

खबरें और भी हैं…

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *