अब हार्ट को खतरा: कोरोना के बाद हार्ट को खतरा, 300 लोग सदर अस्पताल पहुंचे, 60 का खून गाढ़ा मिला

रांची7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • पोस्ट कोविड ओपीडी में दिखाने के बाद 20% मरीजों को चल रही खून पतला होने की दवा

सदर अस्पताल की पोस्ट कोविड ओपीडी में 15 दिनों में 300 से ज्यादा लोग इलाज के लिए पहुंचे। ओपीडी में पहुंचे सभी लोग कोरोना से ठीक होने के बाद विभिन्न लक्षण लेकर पहुंचे थे। सभी का एक्सरे, सीटी स्कैन और डी-डायमर टेस्ट कराया गया। 300 में 20% यानी करीब 60 मरीजों में खून गाढ़ा पाया गया, जो हार्ट अटैक का कारण बनता है। उन मरीजों को खून पतला करने की दवाइयां दी गईं। 7 मरीज को भर्ती करने की नौबत आई है। अस्पताल के ही चौथे तल्ले पर स्थित पोस्ट कोविड वार्ड में 3 मरीज का इलाज चल रहा है।

दूसरी ओर, अस्पताल में छह विभागों की ओपीडी का संचालन शुरू हुआ है। दूसरे दिन मेडिसिन ओपीडी में कई मरीज सर्दी-खांसी, बुखार और मौसमी बीमारियों की शिकायत लेकर पहुंचे थे। सभी को देखने के बाद चिकित्सकों ने सलाह देकर दवाई लिखीं।

कार्डियोलॉजिस्ट ने कहा… हार्ट व ब्रेन में ब्लड क्लाॅट पाए गए

रिम्स के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. प्रशांत कुमार के अनुसार, कोविड से ठीक होने के बाद ना सिर्फ ब्लैक फंगस, बल्कि अन्य कई सारे कॉम्प्लिकेशन मरीजों में दिखते हैं। कोरोना से ठीक होने के 6 से 8 सप्ताह के बाद मरीजों में पोस्ट कॉम्प्लिकेशन देखने को मिलता है। एक रिसर्च में सामने आया है कि कोविड से हुए 30% से ज्यादा मौतों में खून का थक्का मोटा पाया गया था। मरीजों में फेफड़े के अलावा हार्ट और ब्रेन में भी ब्लड क्लॉट पाए गए थे।

डॉ. अजित ने बताया : ठीक होकर क्या करें, क्या नहीं –

क्या करें…

  • यदि पहले से किसी तरह की बीमारी हो तो उसकी दवा लेनी शुरू कर दें।
  • संक्रमण से ठीक होने के एक सप्ताह बाद किसी डॉक्टर से जरूर मिलें और अपना ब्लड जांच जरूर कराएं।
  • अगर खांसी है तो गर्म पानी में नमक डालकर गार्गल करें। मास्क और हैंड सेनिटाइजर का इस्तेमाल करें।
  • कोरोना से रिकवर होकर 14 दिनों के बाद ही दूसरों के संपर्क में आएं।
  • सांस लेने की एक्सरसाइज, मेडिटेशन करें, पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ लें।
  • वैसे मरीज जिन्हें पहले से हार्ट की बीमारी है, वे शुरुआत में थोड़ा-थोड़ा ही व्यायाम करें और धीरे-धीरे बढ़ाएं।

क्या ना करें…

  • धूम्रपान और शराब का सेवन न करें।
  • बहुत जटिल और ज्यादा थकान वाली एक्सरसाइज ना करें।
  • ज्यादा मात्रा में मिठाई न खाएं। कोरोना से ठीक हो चुके मरीजों में मधुमेह की शिकायत मिल रही है।
  • बिना मतलब के छोटी-छोटी बातों का तनाव ना लें। खुद को स्ट्रेस फ्री रखने की कोशिश करें।

नोट: कोरोना से ठीक होने के बाद ब्लड टेस्ट जैसे- सीआरपी, डी डायमर, आरबीएस, एलएफटी, आरएफटी, सीबीसी आदि जांच करने की जरूरत पड़ सकती है। विशेषज्ञ चिकित्सक से परामर्श कर ही जांच कराएं।

ब्रेन में दुष्प्रभाव पर रिम्स में होगा रिसर्च

डब्ल्यूएचओ द्वारा ऑनलाइन बैठक हुई। इसमें रिम्स के निदेशक कामेश्वर प्रसाद ने विभिन्न देशों के विशेषज्ञों के साथ हिस्सा लिया। इसमें संक्रमण से दूरगामी मस्तिष्क में होने वाले दुष्प्रभाव पर रिसर्च करने का प्रस्ताव डब्ल्यूएचओ को देने का निर्णय लिया गया है। रिम्स अग्रणी भूमिका होगी। रिम्स देश के अन्य संस्थानों को इससे जोड़ेगा।

खबरें और भी हैं…

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *