पुलिस एसोसिएशन अध्यक्ष के सस्पेंशन का मामला गरमाया: पुलिस मुख्यालय के सख्त रवैये से गुस्से में बिहार पुलिस एसोसिएशन की टीम, तत्काल पूरी कार्रवाई रोकने की कर दी है डिमांड

पटना9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

बिहार पुलिस एसोसिएशन के अध्यक्ष इंस्पेक्टर मृत्युंजय कुमार सिंह।

बिहार पुलिस के इंस्पेक्टर मृत्युंजय कुमार सिंह को DGP के आदेश पर सस्पेंड किए जाने का मामला गरमा गया है। बिहार पुलिस एसोसिएशन की टीम गुस्से में आ गई है। सीधे तौर पर पुलिस मुख्यालय से अपनी कार्रवाई रोकने की डिमांड कर दी है। एसोसिएशन की तरफ से साफ तौर पर कहा गया है कि मृत्युंजय कुमार सिंह का सस्पेंशन वापस लिया जाए। उनके खिलाफ जो डिपार्टमेंटल कार्रवाई शुरू करने का आदेश दिया गया है, उसे भी वापस लेना होगा। ऐसा नहीं करने पर बिहार पुलिस एसोसिएशन आने वाले चंद दिनों में ही अपनी एक मीटिंग करेगी और फिर अपनी लड़ाई का एजेंडा तैयार करेगी। एसोसिएशन के महामंत्री कपिलेश्वर पासवान ने इस मामले पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी संज्ञान लेने की गुहार लगाई है। साथ ही अपील की है कि मुख्यमंत्री मृत्युंजय कुमार सिंह के निलंबन से मुक्त किए जाने का आदेश जारी करें।

DGP को पसंद नहीं आई अपनी आलोचना
दरअसल, यह पूरा मामला कोरोना की दूसरी लहर से जुड़ा हुआ है। इस पिरियड में बिहार पुलिस के कई इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टर की मौत वायरस के संक्रमण से हो गई। काफी सारे इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टर बीमार पड़े। इनमें से कई पुलिस अफसरों को बेहतर इलाज नहीं मिला। मृत्युंजय कुमार सिंह एक इंस्पेक्टर होने के साथ ही बिहार पुलिस एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष हैं।

बात एक महीने पहले की है। बीमार पुलिस अफसरों के बेहतर इलाज को लेकर परेशानी हो रही थी। उन लोगों ने अपने एसोसिएशन के अध्यक्ष मृत्युंजय कुमार सिंह से कांटैक्ट किया, ताकि पटना के अच्छे हॉस्पिटल में इलाज हो जाए। बतौर अध्यक्ष उन्होंने काफी कोशिश की। मगर, बीमार पुलिस अफसरों को बेहतर इलाज नहीं मिल पा रहा था। इसी वजह से उन्होंने तीन-चार बार DGP संजीव कुमार सिंघल को कॉल कर दिया था। लेकिन, उन्होंने एक भी कॉल नहीं उठाया। इस बात की आलोचना करते हुए मृत्युंजय कुमार सिंह ने एक पोस्ट लिख डाला और सोशल नेटवर्क पर डाल दिया। यही बात DGP को नागवार गुजरी। इनके आदेश पर ही CID के अपराध शाखा की DIG गरिमा मलिक ने 10 जून को मृत्युंजय कुमार सिंह को सस्पेंड कर दिया और डिपार्टमेंटल कार्रवाई शुरू करने का आदेश दे दिया। इससे पहले उनसे पूरे मामले पर स्पष्टीकरण भी मांगा गया था, जिसका जवाब मिला भी, पर मुख्यालय को वह जवाब पसंद नहीं आया था।

खबरें और भी हैं…

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *