वर्दीधारियों पर गोलीबारी: 8 माह में पुलिस पर 13 हमले, पब्लिक से क्यों बढ़ रही है दूरी, जानेंगे डीआईजी

भागलपुर2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • पुलिस ने लोक संवाद गोष्ठी कर दी बंद, शांति समिति में भी नए लोगों को नहीं जोड़ रही

जिले में पुलिस व पब्लिक के बीच की दूरियां बढ़ रही हैं। पुलिस पर लगातार हमले हो रहे हैं। पिछले 8 माह के आंकड़े चौंकाने वाले हैं। इस दौरान पुलिस पर 13 बार हमले हुए हैं। वर्दीधारियों पर गोलीबारी और पथराव भी हुआ है। पुलिस पर हमले की घटना को लेकर रेंज डीआईजी सुजीत कुमार चिंतित हैं। हमले के पीछे क्या वजह रही है, उसके कारणों को जानेंगे और उसके समाधान की दिशा में भी पहल करेंगे।

इस मई और जून में अब तक पुलिस पर 5 हमले हो चुके हैं। ज्यादातर घटनाएं छापेमारी के दौरान हो रही हैं। लोगों से जुड़ने, उनकी समस्या जानने और संवादहीनता खत्म करने के लिए हर माह थानेदार अलग-अलग स्थानों में लोक संवाद गोष्ठी करते थे। पूर्व डीआईजी विकास वैभव ने इसकी शुरुआत की थी। लेकिन उनके तबादले के बाद लोक संवाद गोष्ठी बंद हो गई। यह जनता से जुड़ने से सबसे सरल तरीका था और हर माह पुलिस लोगों से इंटरेक्शन करती थी। उसी तरह थाना स्तर पर गठित शांति समिति में भी नए लोगों को नहीं जोड़ा जा रहा है।

मई और जून में इन जगहाें पर अब तक पुलिस पर पांच बार हुए हैं हमले

1. जरलाही मोहल्ले में वारंटी पवन तांती को पकड़ने गई मोजाहिदपुर थाने की पुलिस स्थानीय लोगों ने हमला कर दिया था। इस मामले में जमादार अभिनंदन यादव ने 7 लोगों को नामजद और 25 अज्ञात पर केस दर्ज कराया था। जमादार संजय सिंह समेत अन्य पुलिसवालों के साथ गाली-गलौज और मारपीट की गई थी। थाने की गाड़ी को क्षति पहुंचाया था। 2. बमबाजी, लूट समेत कई मामलों के फरार शातिर अपराधी नीरज यादव उर्फ नीरो यादव को पकड़ने गई बबरगंज थाने की पुलिस पर सकरुल्लाचक मोहल्ले में हमला हो गया था। इसमें दारोगा सुरेंद्र प्रसाद चौधरी समेत 3 पुलिसवालों की बेरहमी से पिटाई की गई थी। गिरफ्तार को भी छुड़ाने का भी प्रयास किया था। मामले में दारोगा सुरेंद्र चौधरी ने नीरज यादव उसके सहयोगियों के खिलाफ बबरगंज थाने में केस दर्ज कराया है। 3. कोयला घाट मोहल्ले में मनीष यादव के घर चोरी का सामान बरामद करने गई जोगसर पुलिस से आरोपी की मां और भाई उलझ गए थे। इस दौरान पुलिसवालों से गाली-गलौज और धक्का-मुक्की की गई थी। पुलिस ने आरोपी की मां मीना और भाई तरुण को गिरफ्तार कर लिया था। जबकि मुख्य आरोपी मनीष फरार हो गया था। मामले में मां-बेटे के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किया था। 4. मौलानाचक के मियां साहब के मैदान के पास मवेशी लदे ट्रक के पकड़े जाने बाद स्थानीय लोग जुट गए थे और पुलिस की कार्रवाई का विरोध किया था। गिरफ्तार दोनों अारोपियों को पुलिस हिरासत से छुड़ाने का प्रयास किया था। मामले में मोजाहिदपुर पुलिस ने पशु तस्करी के अलावा सरकारी काम में बाधा पैदा करने का केस दर्ज किया था। 5. गोराडीह प्रखंड के छोटी मोहनपुर गांव में अतिक्रमण हटाने गई पुलिस-प्रशासन की टीम ने हमला कर दिया था। लोगों ने पथराव भी किया था, जिसमें कुछ पुलिसवाले चोटिल हो गए थे। मामले में गोराडीह सीओ ने 13 नामजद और 50 अज्ञात लोगों पर गोराडीह थाने में केस दर्ज कराया था।

अब पुलिस के स्तर से ये हो रहे हैं प्रयास

विधि-व्यवस्था पर प्रभाव डालने वालों की एसएसपी ने मांगी है सूची
एसएसपी निताशा गुड़िया ने थानेदार को निर्देश दिया है कि हर थाना इलाके में वैसे कुछ लोग चिह्नित हों, जो विधि-व्यवस्था पर सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव डालते हैं। समय-समय पर शांति समिति के सदस्यों के साथ थानेदार बैठक करेंगे और समन्वय स्थापित करेंगे।

पुलिसकर्मियों को डीआईजी बताएंगे-लाेगांें से कैसे करना है व्यवहार, पुलिस-पब्लिक रिलेशनशिप पर सेमिनार भी होगा
डीआईजी सुजीत कुमार ने बताया कि रेंज के तीनों जिलों के पुलिस पदाधिकारियों के साथ पुलिस-पब्लिक रिलेशनशिप को लेकर सेमिनार करने की योजना बनाई गई थी। लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण इसे मूर्त रूप नहीं दिया जा सका है। अब संक्रमण कम हो रहा है। पुन: इसके आयोजन पर विचार किया जा रहा है। सेमिनार में पुलिसकर्मियों बताया जाएगा कि पब्लिक के साथ कैसा व्यवहार करना है।

खबरें और भी हैं…

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *